Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Friday, January 9, 2015

बहार की उम्मीद....



"ओह्ह !! आज फिर ये फूल पड़े है !! "
"कौन रखता है इनको ?"
 " पतझड़ के मौसम में बहार की किसको उम्मीद है !!"
 " इन पत्तों के साथ इन महकते फूलों को फेंकते मुझे बहुत दुःख सा होता है !!"बलबीर खुद से ही जैसे बात कर रहा हो।
 " बलबीर बेटे !! तुम दुखी ना हुआ करो , मेरी आशा को मैं रोज़ ताज़ा फूल ला देता हूँ। मेरी जीवन साथी आशा जो न हो कर भी यहाँ इन फूलों की महक लेने आ ही जाती है। "प्रकाश जी भावुक हुए जा रहे थे।