Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Thursday, July 2, 2015

बंद दरवाज़ा...

बंद  दरवाज़े के आगे ठिठक गयी रूमा।
" अरे  ! यह तो वही दरवाज़ा , जगह है , जो मैं रोज़ सपने में देखती हूँ। अहा ! वही महल !! " 
तभी दरवाज़ा खुला।  एक दरबान अंदर से बाहर आया और अदब से झुक कर रूमा से बोला , " आइये राजकुमारी जी आपका स्वागत है। "
वह रोमंचित सी अंदर चली। बहुत शानदार  महल दूर से ही नज़र आ रहा था। सुन्दर सा बगीचा था। एक तरफ मंदिर था। वह मंदिर की तरफ बढ़ी। अपने आराध्य को सामने पा कर हाथ जुड़ गए और आँखे मुंद गई।   बहुत सारी घंटियां बज़ रही थी वहां। इतनी तेज़ कि जैसे कान के पास बज़ रही हो। उसने घबराकर आँख खोली तो सड़क पर रिक्शेवाला घंटी बजा रहा था।  चिल्ला कर  बोला  , " ओ मेडम , घर वालों को अलविदा बोल कर आयी हो क्या ?" 
अचकचा गई रूमा और जोर से हँस पड़ी कि यह सपना था या। ....?