Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Tuesday, March 21, 2017

तिलिस्म...

                सुमि अचानक हुई बारिश से घबरा कर तेज़ कदम चलने लगी।  वैसे इतनी अनायास भी नहीं थी ये बारिश। बादल तो सुबह ही से थे पर उसे नहीं मालूम था कि ऐसे ही भिगोने लग जाएगी। घर से चलते हुए माँ ने  छाता ले जाने को कहा भी था पर वो ही लापरवाही से भाग ली थी।  "अरे माँ मिटटी की थोड़ी हूँ जो गल जाउंगी ...!"
 " अब डर क्यूँ रही है सुमि !"मन ही मन सुमि ने अपने आप से ही सवाल किया। चारों तरफ नज़र दौड़ाई कोई टैक्सी  भी नज़र नहीं आ रही थी। लोग भी तेज़ क़दमों से जाते दिख रहे थे। माना के सुमि मिटटी की नहीं थी पर उसके हाथ में कुछ किताबे थी ,वे तो भीग ही सकती थी। सो उन्ही की चिंता में थी वह और उनको दुपट्टे में अच्छे से लपेट कर अपने सीने से लगा लिया।
  तभी अचानक उसके सर पर से बारिश गिरना बंद हुई तो वह चौंक पड़ी और जल्दी से मुड़ी तो एक नौजवान उसके सर पर छाता किये हुए था। सुमि सहम सी गयी।युवक मुस्कुराते हुए बोला ,"मैं भी किसी टैक्सी का इंतजार कर रहा हूँ। आपको भीगते और किताबें सहेजते देखा तो मुझसे रहा नहीं गया। " सुमि की जुबान जैसे तालू के ही चिपक गयी थी और उसके  दिमाग में एक बिजली सी कौंध गयी कि कहीं  ये उसका राजकुमार तो नहीं ! और धीरे से बोल पड़ी "राज कुमार ! "
युवक हंस कर बोला , " जी नहीं ,मेरा नाम लक्ष्य वीर सिंह है। "
पर सुमि तो जैसे वहां  थी ही नहीं और बस उसकी आँखों में ही देखती रही। लक्ष्य स्मित मुस्कान के साथ बोला , "तुम बहुत खूबसूरत हो और ये तुमने जो हल्का आसमानी रंग पहना है, वो तुम पर बहुत खिल रहा है !". फिर उसके कंधे पर तर्जनी से ठक- ठक कर बोला " आपकी टैक्सी आ गयी !!जाइए ...! "
सुमि को जैसे किसी ने उसे तिलिस्म में जकड दिया हो। मंत्रमुग्ध सी, यंत्रचलित सी टैक्सी में  बैठ कर  घर आ गयी। उसे नहीं याद उसने कैसे घर का पता बताया। बस घर आ गयी और सीधे अपने कमरे में ही जा कर रुकी। माँ आवाज़ लगाती ही रह गई। चिंतित सी  पीछे - पीछे ही चली आयी और पूछा ,"क्या बात सुमि  !तबियत तो ठीक है...! ".
   "हां ठीक है ,भीगे  कपडे बदलने आयी हूँ ठण्ड सी लग रही है। आप मेरे लिए चाय ही बना दो ना !"
  थोड़ी देर में वह खिड़की से बाहर बूंदे गिरती  देख रही थी और सोचते हुए मुस्कुरा दी ," आज जिससे मुलाकात हुई थी क्या वह उसका राज कुमार तो नहीं जिसका सपना कई बरसों से देखती आ रही थी। "
  जब वह बचपन को छोड़ केशोर्य की तरफ कदम रख रही थी तो उसने एक कहानी पढ़ी थी  "राजकुमारी पुष्पलता और राजकुमार सुकुमार" की। तभी से उसने एक सपना पाला था कि  उसका भी एक राजकुमार आएगा। 
 कहानी में "राजकुमारी पुष्पलता एक दिन जिद करके ख़राब मौसम में अपनी सखियों के साथ आखेट पर चली जाती है।  अचानक बादलों के गरजने से उसक घोडा बिदक कर भाग लेता है। जिससे वह अपनी सखियों से बिछुड़ जाती है। अचानक से घटी घटना और और तेज़ बारिश उस पर अँधेरा ,राजकुमारी रो ही पड़ी थी। तभी उसने अपने  पास ही एक रोशनी सी महसूस हुई  और बारिश कम होने का अनुमान सा लगा।  सहमते हुए से आँखे खोली तो एक सुन्दर नौजवान खड़ा था अपने दोनों हाथों  में एक बड़ा सा पत्ता छाते की तरह उसके सर पर किये हुए।  उसको जैसे बारिश से बचा रहा हो। वह कुछ बोलती उससे पहले ही युवक बोला , " घबराओ मत ,मैं परी देश का राज कुमार ,सुकुमार हूँ। " धरती पर अक्सर आया करता हूँ। मुझे यह बहुत पसंद है। "फिर बातों ही बातों में परिचय के बाद सुकुमार ने पुष्पलता को उसके महल छोड़ते हुए कहा , " राजकुमारी तुम बेहद खूबसूरत हो। मैं तुम पर अपना दिल हार चुका हूँ। क्या मैं तुमसे हर रोज मिलने आ सकता हूँ...?" वह राजकुमारी को अपलक तकते  हुआ छोड़ चला गया। इस तरह राजकुमारी से वह हर रोज़ रात को मिलने आता और सुबह होने से पहले ही चला जाता।  एक दिन राजा के द्वारा पकड़  लिए जाने पर राजकुमारी ने सुकुमार से विवाह की जिद की।  राजा ने यह कह कर इनकार कर दिया कि उसे ,उसके वर के रूप में एक उत्तराधिकारी भी चाहिए। जिसके लिए सुकुमार उपयुक्त नहीं था। पुत्री के हठ ने राजा को उससे विवाह के लिए मजबूर कर दिया। फिर उनके एक पुत्र भी हो गया। सुकुमार का वही रोज़ का नियम था रात को आना और सुबह सूरज निकलने से पहले चले जाना।  उनका पुत्र अब लगभग एक साल का होने का था। ऐसे ही एक रात छोटे शिशु ने जब सुकुमार के गले में चमकती मोतियों की माला की तरफ हाथ बढाया तो उसने अपने पुत्र को ही गोद से हटा  कर दूर कर दिया। यह बात पुष्पलता को खटक गई  और उसने कहा , " क्या हुआ माला ही तो है इसे दो ना !"सुकुमार बोला ये माला नहीं है ये एक तिलिस्म है जो मुझे देव पहना कर भेजते है। अगर मैं यह उतार  दूंगा तो यहीं  का हो कर रह जाऊंगा। ".पुष्पलता तब तो कुछ ना बोली पर कुछ सोच कर उसकी आँखे चमकने लगी। 
    अगली रात को जब सुकुमार पुत्र को गोद में लेकर दुलार रहा था तभी राजकुमारी ने एक शूल जो वह पहले ही लाकर  रखी थी , पुत्र के पैर में  गड़ा दी जिससे वह जोर से रो पड़ा और पुष्पलता को बोलने का बहाना मिल गया।  " ये माला के लिए ही रो रहा है एक बार दे दो ,मैं वादा करती हूँ  ,जब यह सो जायेगा तब मैं खुद ये माला तुम्हें पहना दूंगी "पुत्र मोह में सुकुमार को यह करना पड़ा। माला लेकर पुत्र भी बहल गया और सो गया। तभी राजकुमारी ने चुपके से सुकुमार का ध्यान भंग करते हुए माला तोड़ दी और सारे मोती बिखर गए और सुकुमार तिलिस्म से आजाद था। सुबह का सूरज एक नया ही नूर ले कर निकला था।  राज कुमारी का जीवन अब  नयी दिशा की ओर चल पड़ा था .
        इस कहानी को ना जाने कब से जीती आ रही थी सुमि। फिर आज हुई घटना को सोच कर मुस्कुरा पड़ी और फिर अपने राजकुमार के बारे में सोचने लगी। चेहरा तो उसको ध्यान ही नहीं आ रहा कैसा था वो तो बस खो ही गयी थी।  फिर अचानक ध्यान आया की उसकी नाक ,अरे हाँ उसकी नाक कितनी सुंदर थी उसका तो दिल ही वही अटक गया। 
       शीशे के सामने खडी बाल संवारती -संवारती अचानक रुक कर उसका नाम सोचा तो हंसी आ गयी ," लक्ष्य वीर सिंह "नाम भी कैसा है जैसे धनुष से तीर ही छोड़ना हुआ हो !"  एक तीर तो चला और सीधे सुमि के ह्रदय को बींध गया। जितनी बार ही नाम लिया एक तीर सा चल गया और हर बार ह्रदय बींधता गया। सोचते-सोचते सुमि कब न जाने  सो गयी। 
    सुबह उसे माँ की आवाज़ कहीं दूर से आती सुनी। वो उसे ही पुकार रही थी। सुमि की आँखे ही नहीं खुल रही थी सर भी बहुत दर्द हो रहा था। माँ उसके माथे पर हाथ रखे उसे पुकार रही थी ,"अरे तुझे तो बहुत तेज बुखार है ...! "उसके बाद डॉक्टर ,दवाईयां..और न जाने कितनी हिदायते और सबसे बड़ी तो यह कि  जब तक ठीक ना हो जाओ घर से बाहर नहीं जाना ना ही  किसी किताब के हाथ लगाना। सुमी का मन तो बार-बार भाग रहा था उसी जगह जहाँ  उसका राज कुमार मिला था। 
      ठीक होने बाद भी वह वहां गयी कई -कई देर खड़ी भी रही। कहीं वह आता ही दिख जाये। लेकिन  इतना तो सुमी भी समझती थी ,कहानियां भी कभी सच होती है भला ...! फिर भी अक्सर वो मुड़ कर देखने लगती शायद कहीं ....!
 मौसम भी बदल गया और ऋतु भी पर उसके मन में तो एक ही मौसम था "आशा का ....."
   साल होने लगा था उस घटना को और अब तो  घर में सुमि की शादी की बात चलने लगी थी।  वह किसे कहती और कहती भी क्या कि  उसे किसका इंतज़ार है। 
        एक दिन माँ ने उसे बताया उसकी मौसी आने वाली है साथ में उदयवीर सिंह जी और उनका परिवार भी है जो उसके रिश्ते के लिए आने वाले है। सुमी  चुप रही।  उसके "आशा" के मौसम पर बाहर का मौसम हावी हो रहा था।  बहुत घुटन सी थी वातावरण में और उसके मन में भी ..!
    दोपहर के लगभग तीन बजे दरवाज़े की घंटी बोलने पर सुमि ने दरवाज़ा खोला तो वही खड़ा था जिसका इंतजार था और उसके मुहं से एक बार फिर निकल पड़ा "राजकुमार ...!" दिमाग में लक्ष्य वीर सिंह का तीर सा चल गया ... वह भी उसी अंदाज़ में हंसा ,"जी नहीं ...! लक्ष्य वीर सिंह !!".
सुमि से कुछ भी कहते नहीं बन रहा था। तभी उसकी मौसी हैरान होते हुए से बोली ,"अरे ...! क्या तुम दोनों एक दुसरे को जानते हो ...? "
    लक्ष्य की माँ सब कुछ भांपते हुए आगे बढ़ कर सुमि को गले से लगा लिया। तभी उदय वीर सिंह बोल पड़े "लो भई ...! अब दरवाज़े पर ही सारा काम हो गया। मिलना -मिलाना भी और गले लगाना भी।  अब तो एक ही काम रह गया है मुहं मीठा करवाना !क्या वो भी दरवाज़े पर ही करना होगा या अन्दर भी चला जायेगा ...!"
   अभी तक सुमि के माँ -पापा सब हतप्रभ से खड़े थे। चौंकते हुए से आगे बढ़ कर उनको अन्दर ड्राइंग रूम में ले गए। वहां बैठ कर जब पूछा गया तो लक्ष्य ने सारी बात बतलाई।  लक्ष्य की माँ अनुसूया हँसते हुए बोली "मुझे तो इसने बताया था। पर जब इसे ही नाम -पता कुछ ही नहीं  मालूम था, तो क्या करती भला मैं भी ...!"
  थोड़ी देर बाद जब वो अकेले बैठे बात कर रहे थे तो लक्ष्य ने पूछा के क्या वो उसको याद रहा और क्यूँ रहा ...
तो सुमि ने कहा ,"क्यूँ याद रहे नहीं मालूम पर याद तो रहे बस यह पता है। "
" तुम फिर मिली ही नहीं !मैंने तुम्हें बहुत ढूंढा। यह शहर मेरे लिए नया ही था। यहाँ तो मैं दोस्त के जन्म दिन पर आया था। फिर कई दिन मैं आता रहा यहाँ। पर तुम तो जैसे परी देश की राजकुमारी थी ! आयी और गुम हो गयी !"
   सुमि ने बताया उसे बहुत तेज़ बुखार हो गया था।  बाद में उसने भी उसे तलाश करने की कोशिश की थी। बाहर हलकी सी फुहारें पड़ रही थी। मौसम खुशगवार हो गया था।  सुमि के लिए बरसात एक ख़ुशी ही ले कर आयी थी। हर बार की तरह इस बार भी।
   फिर तो जैसे समय पंख लगा कर उड़ने लगा। पहले सगाई फिर शादी।  सब कुछ अच्छे से हो गया। सभी खुश थे।  लक्ष्य को एक धुन सी सवार थी काम करने की। वह  अपने काम के  आगे किसी को नहीं समझता था। वह नाम का ही लक्ष्य नहीं था बल्कि उसका एक लक्ष्य था ,जिन्दगी में आगे बढ़ने का और इतना आगे बढ़ने का  कि कोई भी उसको पकड ना सके।  इस जुनून में  उसका साथ पाने को सुमि के सपने भी पिस रहे थे।
   ऐसा नहीं था के लक्ष्य को अहसास  नहीं था सुमि का। कभी -कभी समय निकलने की भी कोशिश भी करता था। ऐसे ही एक दिन वो साथ में बैठे थे। अचानक उसे कुछ याद आया और पूछ बैठा ,"सुमि, जरा बताओ तो , यह  राजकुमार कौन है जिसका नाम तुमने मुझे देखते ही लिया था ...?"
  सुमि थोडा सा झेंप सी गयी और उसकी नाक पर ऊँगली से ठक- ठक करती बोली ,"कोई भी हो ,तुम्हे क्यूँ बताऊँ ...!है एक मेरा अपना राजकुमार। "
        लक्ष्य का अपने काम के प्रति जुनून कुछ ज्यादा ही था। हालाँकि  उसके पिता समझाते थे कि वे  अभी कारोबार सम्भाल सकते हैं। उसको और बहू को कुछ समय बाहर भी जाना चाहिए। यही दिन है फिर ये समय लौट कर नहीं आएगा और उसे अब नए  काम पर ध्यान देने की जरुरत भी नहीं। आखिरकार  जो उन्होंने अपना इतना बड़ा कारोबार बनाया है वो उसे ही तो देखना है। लेकिन  उसे एक नया मुकाम ही हासिल करने का जुनून सा था।
 तभी एक नए नन्हे मेहमान के आने की सूचना से घर में ख़ुशी की लहर सी दौड़ गयी .अब सुमि भी कुछ व्यस्त होने लगी थी अपने नन्हें की तैयारी के स्वागत के लिए .
और वो दिन भी आ गया .बेटा हुआ है यह जान दादा उदय वीर सिंह की ख़ुशी का ठिकाना ही नहीं रहा .गोद में लेते हुए बोले ,"इसका नाम मैं ,अन्नत वीर सिंह  रख रहा हूँ ,ये मैंने पहले ही सोच लिया था."दादी अनुसूया हंसी ,"अगर पोती होती तो क्या नाम रखते ...!" 
"उसका नाम मैं अरुंधती रखता ",मुस्कुराते हुए वे बोले .
बेटे के जन्म के बाद ,लक्ष्य के व्यवहार  में थोडा सा परिवर्तन तो आया पर जुनून कम ना हो सका .बेटे से तो इतना लगाव था के दिन में भी  कई - कई बार उसकी आवाज़ सुनने के लिए फोन करता ....ऐसे ही दिन गुज़र रहे थे .
 कुछ महीनो के बाद लक्ष्य ने जैसे धमाका ही कर दिया .उसने बताया वो तीन साल के लिए लन्दन जा रहा है कुछ तकनीकी शिक्षा के  लिए ,उसके बाद वो अपनी फेक्ट्री में बहुत बदलाव ला सकेगा ,तो उसका जाना जरुरी है .उसके  पिता  के तो क्रोध का पारावार ही ना रहा .एक दम गरज से पड़े उस पर ,:कोई भी जरूरत नहीं है कहीं जाने की हमें नहीं चाहिए ज्यादा धन -दौलत ,यहीं रहो या फिर बहू और बच्चे को भी ले कर जाओ."
पर लक्ष्य को कहाँ मानना था . उसके पास भी बहुत तर्क थे .माँ ने भी समझाया ...और सुमि का तो रो- रो के ही बुरा हाल हो गया था .
"मैं तुम्हारे बिन तीन मिनिट भी नहीं रहना चाहती ,तीन साल तो बहुत है "...सुमि रोते हुए बोल रही थी .
"अब तुम तो मुझे कमजोर मत बनाओ ,ये सब मैं तुम लोगों के लिए ही तो कर रहा  हूँ ,मैं खुद, तुम दोनों और माँ-बाबा के बिन नहीं रहना चाहता ,पर मैं  एक मुकाम हसिल करना चाहता हूँ ,मुझे मत रोको ", दुखी होते हुए लक्ष्य बोला .
"पर लक्ष्य ,जरा सोचो तुम्हारे इस मुकाम हासिल करने के चक्कर में हम सब तुमसे दूर रहने की कीमत चुकायेंगे ,उसका क्या .वो कम है क्या ...?"सुमि ने फिर से समझाने की कोशिश की .
पर लक्ष्य नहीं माना तो सुमि ने भी सोच लिया अब वह उसे नहीं रोकेगी .
एक दिन रात को  खाना खाने के बाद जब सभी लोग बाहर लान में बैठे थे तो लक्ष्य अपने बेटे को दुलारते हुए बोला बस एक बार मुझे 'पापा ' बोल दे फिर तो तीन साल बाद लौटूंगातब तक तो तूं बहुत बड़ा हो जायेगा .
और माँ का जैसे गला भर आया और रुलाई रोकते हुए बोली, "और बेटा क्या पता मैं मिलूँ या नहीं , ये तुमको यकीन है क्या ...!"
" तुम्हारा तो पता नहीं, पर मैं तो नहीं मिलूँगा इसे "...अपने मन के भावों को छुपाते हुए भी उदय वीर सिंह का गला  रुंध गया .
बस कीजिये माँ ,बाबा ,ऐसे अशुभ मत बोलिए ...!जाने दो इसे ,मैं हूँ ना आप दोनों का ख्याल रखने के लिए और तीन साल तो बहुत जल्दी ही कट जायेंगे ,अब जो समय बिताएंगे  हंस कर बिताएंगे .ताकि इसे भी वहांजाने पर या जाने के बाद आत्म -ग्लानी ना महसूस हो ." सुमि खाली आँखों से बोली .
फिर वो दिन भी आ गया जब लक्ष्य को जाना था .उस दिन मौसम में घुटन और साथ में सुमि में मन में भी जैसे -जैसे जाने का समय नज़दीक आ रहा था सुमि के सब्र का पैमाना भी गले तक पहुंचा जा रहा था .उसे लग रहा था, अगर कोई उससे बात करने की कोशिश करेगा तो वह जोर से रो ही पड़ेगी ..
सामान कार में रख सभी एयर -पोर्ट की तरफ चल पड़े .सभी चुप थे किसी को कोई बात ही नहीं सूझ रही थी .अचानक लक्ष्य ने माहोल को हल्का करने के किये बात शुरू की ," अरे भाई कोई बोलोतो सही , मैं कोई युद्ध पर थोड़ी जा रहा हूँ आज कल इंटरनेट का जमाना है हम दूर कहाँ है जब चाहे लाइव बात कर लेना ".कोई बोलता ,उससे पहले ही उसने गाड़ी रोकने को कहा ड्राइवर से सडक के पास में गुब्बारे  बेचने वाला था सो लक्ष्य ने अन्नत के लिए गुब्बारे लेने के लिए शीशा नीचा किया ...दूर कहीं चित्रा सिंह की ग़ज़ल बज  रही थी ," अब के बरसात की रुत और भी भड़कीली है ,जिस्म से आग निकलती है हवा भी गीली है ...."
सुमि की घुटन बढती ही जा रही थी और उसे कहीं से भी ठंडी हवा का झौंका  आता नहीं दिखा .
अब  विदा की बेला थी .सुमि का मन भीगा -भीगा सा जा रहा था कैसे भी उमड़ते हुए आंसुओं को रोक रही थी .जैसे ही जाने के लिए अनाउन्समेंट हुई ,लक्ष्य ने अन्नत को अपनी माँ थमाना चाहा...
और अन्नत ,लक्ष्य का अंगूठा थामते हुए बोल पड़ा " पापा "..!
लक्ष्य को सिर्फ एक शब्द ही सुना  " पापा "....और उसे लगा जैसे उसकी दुनिया तो यहीं है वह कहाँ जा रहा था ,अब उसे कोई भी अनाउन्समेंट नहीं सुनाई दे रही थी वह तो बस बेटे को सीने में भींचे खड़ा रहा और बाकि सब भी सुखद आश्चर्य से भरे उनको देख रहे थे .और सुमि को लगा जैसे कोई ठंडी हवा का झौंका सा लहरा गया और वो दौड़ पड़ी लक्ष्य की तरफ ये कहते हुए "आज उसका राजकुमार एक बार फिर से तिलिस्म से बाहर आ गया ."...अब तो मौसम की घुटन भी कम होकर बूंदों में बरसने लगी थी .इस बार भी बरसात सुमि के जीवन में खुशिया ही ले कर आयी थी .......


उपासना सियाग ( अबोहर )


Friday, September 30, 2016

विचार कीजिये, कन्या पूजन के समय

           सभी को शारदीय नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ। अब से नौ दिन देवी पूजा के साथ-साथ कन्या पूजन भी होगा। हमारे भारत देश में यह कैसी विडम्बना है कि हम स्त्री को, कन्या को देवी मान कर पूजते तो है लेकिन सम्मान नहीं करते।
           यहाँ अब भी स्त्री मात्र देह ही है,सम्पूर्ण व्यक्तित्व नहीं । तभी तो हम मूर्तियों को पूजते हैं, हाड़ -मांस की प्रतिमूर्ति का तिरस्कार करते हैं। उसे अश्लील फब्तियों से ,नजरों से ताका जाता है। हर घर में बेटी है, बहन है।  अपने घर की बहन -बेटी का ही सम्मान और सुरक्षा क्यों ? जब तक दूसरों की बेटियों का सम्मान /सुरक्षा नहीं सोची जाएगी तब तक कन्या भ्रूण हत्या नहीं रुकेगी। यह पहला कारण है कन्या भ्रूण -हत्या का। क्योंकि हमारे अवचेतन मन में यही होता है कि बेटियां सुरक्षित नहीं है। लेकिन क्यों नहीं है, इस पर विचार कीजिये, कन्या पूजन के समय।
            बेटी का जन्म मतलब , दहेज़ की चिंता ! और दहेज़ देने के बाद भी उसे यह आवश्यक नहीं है कि बेटी को सुख या सम्मान मिलेगा ही , चाहे शारीरिक प्रताड़ना ना मिले, उसे मानसिक सुख भी तो नहीं मिलता ! यहाँ भी हर घर में बेटी है। अपनी बेटी के लिए सब कुछ उत्तम चाहिए तो जो बहू बना लाये हैं उसके लिए सब उत्तम क्यों ना हो ! यह दूसरा कारण है कन्या भ्रूण -हत्या का। क्योंकि हम दूसरे की बेटी जब बहू बना कर लाते हैं तो बेटी जैसा व्यवहार चाह के भी नहीं कर पाते। क्यों नहीं करते, जबकि वह तो अपने परिवार के लिए समर्पित होती है। इस पर भी विचार कीजिये, जब कन्या पूजन करें !
             बेटियां सभी को प्यारी होती है। मेरे विचार में कोई भी बेटी पर जुल्म करना या गर्भ में ही समाप्त करना होगा। बेटी के भविष्य से डर कर ही ऐसा कठोर कदम उठाता होगा। लेकिन डर कैसा ! कारण पर विचार कीजिये। अपने बेटों को सदविचार दें। एक खुली सोच दें जिससे वह स्त्री को बराबर का दर्जा दें।
             
           
         
       
           

Friday, September 2, 2016

इतिहास अपने को दोहराता है ....

       दरवाजे पर घंटी बोली तो राधे मोहन जी ने पत्नी भगवती जी को आवाज़ लगायी।
     " देखो तो, कहीं मिनी ही ना आई हो ! "
    " हां लगता तो है ...."
      दरवाजा खोला तो सामने मिनी के पति और सास खड़े थे।
        आवभगत के साथ-साथ मिनी के ना आने की वजह भी  पूछी गई।
       " जब बच्चों की छुट्टियां होंगी तब मिनी भी आ जायेगी। अभी तो हम किसी रिश्तेदारी में मिलने जा रहे थे  तो सोचा आपसे मिलते चलें।पता चला था कि आपके पैर में फ्रेक्चर हो गया है।  " मिनी की सास ने सहजता से कहा।
राधामोहन जी की आंखे नम हो आई। आँखे नम, पैर के दर्द से कम और मिनी के ना आने से अधिक हुयी।
       भगवती जी से यह छुप ना सका।
       रसोई में मेहमानों के लिए चाय-नाश्ता तैयार करते हुए उन्होंने भी आँखे पोंछ ली। सहसा उनकी स्मृति में बहुत साल पहले की आज से मिलती जुलती घटना तैर गई। कुछ ऐसा ही मंजर था। उनके पिता जी भी  बीमार थे और राधेमोहन जी अकेले ही मिल आये थे, कि उनकी बेटी छुट्टियों  में ही आ पायेगी। भगवती जी और उनके पिता रो कर, मन मसोस कर रह गए थे।
         मेहमानों के चले जाने के बाद राधेमोहन जी मायूसी से बोले, " मिनी नहीं आयी ! "
" तकलीफ तो मुझे भी है उसके ना आने पर, लेकिन मास्टर जी ! सारी उम्र इतिहास पढ़ाते रहे हो और यह भी याद नहीं रहा कि ' इतिहास अपने को दोहराता है .....'

Wednesday, August 24, 2016

बाबा मेरे बच्चे कैसे हैं .....

बाबा, मेरे बच्चे कैसे हैं ?"

"............. "

" बोलो बाबा ! हर बार मेरी कही अनसुनी कर देते हो ...., अब तो बोलो !"

" ................ "

" बाबा ! "
"............................"

" मैं क्या कहूँ पुत्री ।"

" क्यों नहीं कह सकते हैं ?  तीन साल हो गए हैं ; अपने बच्चों से बिछुड़े हुए ..... ना जाने किस हाल में होंगे ।"

" देखो पुत्री यूँ रो कर मुझे द्रवित करने की कोशिश ना करो..."

" अच्छा ! तुम द्रवित भी होते हो ? लेकिन मेरे पास रोने के अलावा कोई चारा भी तो नहीं है ! "

" तुम खुद क्यों नहीं चली जाती...."

" मगर कैसे जाऊँ ....यहाँ मेरे पति भी तो है ? "

" वह जा चुका है । नया जन्म ले चुका है । यह तुम ही हो जो यहाँ रुक गई हो ....."

" वह चला गया ?"

" हाँ ! "

" वह पाषाण हृदय हो, शायद तुम्हारी तरह ही, चला गया होगा ; मैं नहीं जा पाईं ....मुझे मेरे बच्चों के अकेले पन के 

अहसास ने रोक लिया....मेरी आत्मा छटपटाहटा रही है! हम कितने उत्साह से तेरे दर्शन को आए थे ; अपने नन्हों की भी 

परवाह नहीं की ,और तुमने क्या किया ! "


" मैं ने कुछ नहीं किया ....और तुम बार-बार यूँ मेरे सामने यह सवाल लेकर मत आया करो.... मैं पाषाण हृदय नहीं हूँ।  हां , 

तुम मुझे पाषाणों में ही तलाशते हो। तुम्हें यहाँ आने की जरूरत भी क्या थी ? तुम्हारे कर्तव्य यहाँ आने से अधिक थे। "

" वाह भोले बाबा ! सवाल तुम खड़ा करते हो और जवाब देते कतराते हो ? "

" शांत पुत्री , क्रोध मत करो ! तुम्हें बच्चों के अकेले होने के अहसास ने नहीं बल्कि अपराधबोध ने रोक लिया है। "

" बाबा , तुम्हारे रौद्र  रूप के आगे मेरा क्रोध तो एक पागलपन है....विवशता है ।"
" मुझे तुम्हारे दुःख का अहसास है ....मगर मै क्या करूँ .....? यह सब विधि का विधान है...पहले से ही लिखा है....!"
अच्छा ! फिर तुम्हारे मंदिर को कैसे बचा लिया तुमने ? "
" .............."
" मैं मंदिर में नहीं  रहता पुत्री ! तुम्हारे हृदय में बसता हूँ..याद करो यात्रा से निकलने से पहले तुम्हारे हृदय में भी तो कुछ खटका था , क्या तुमने सुना था ...।"
" आह ....मुझे अपने बच्चों के सिवा  कुछ भी याद नहीं....ना जाने किसके सहारे होंगे...... "
" उठो पुत्री ; अब तुम्हारे बच्चे तुम्हारे नहीं है .....दुःख करने से क्या होगा चली जाओ।  उनका, तुम्हारा  साथ तुम्हारे देह होने तक ही था। .....नई शुरुआत करो !"
" नहीं बाबा , यहाँ से जाने के लिए मुझे पत्थर होना पड़ेगा, भगवान बनना होगा और वह मैं नहीं हो सकती....क्योंकि मैं माँ हूँ ....यहीं रहूँगी...छटपटाती , तुमसे सवाल करती....कि मेरे बच्चे कैसे हैं ?"

  
उपासना सियाग




Thursday, August 18, 2016

पावर कट अच्छा है ......

बूढ़ी दादी उकताई सी टी वी देख रही है। " कोई सारे दिन टी वी देखकर या पूजा पाठ कर कितना समय काट सकता है !" कहने को तो परिवार का हर सदस्य उनकी इज्जत, प्यार करता है ।पोते-पोती भी थोड़ा समय देते भी हैं पर ...., सोचते हुए दादी उदास हो गई ।
    तभी हलचल भरे घर में शांति छा गई ।
       " ओ हो ! लाइट ने अभी जाना था ?"
      " पापा प्लीज् आप राहुल से कहिए ना जनरेटर चला  दे !"
" अभी रुको ! मैं पावर-हाउस फोन कर के पूछता हूँ ....., "
 " अच्छा !! दो घंटे नहीं आएगी ! "
 " दो घंटे जनरेटर चलेगा तो पता है ना कितना डीजल जलेगा ? इनवर्टर से काम चलाओ ; और हाँ सभी कमरों की लाइट-पंखे बंद करो और माँ के कमरे में चलो ।"
    थोड़ी देर में सब दादी के कमरे में थे । टीवी ,वाई-फाई सब बंद थे ।चल रहे थे तो हँसी मजाक के सिलसिले और ठहाके गूँज रहे थे । दादी मन ही मन सोचते हुए मुस्करा रही थी कि पावर कट अच्छा है !

Tuesday, August 16, 2016

अनुभव की महक

     " बीबी जी, दूध वाला घी का डिब्बा दे गया है। "
     " अच्छा ! मांजी को पता तो नहीं चला ना ? "
    " नहीं , मैंने उसे रात  को ही लाने का कहा था ! "
     " माँजी भी कमाल की हैं।  दूध वाले से दूध,खोया और पनीर सब लेते हैं पर घी में ना जाने क्यों उनको बदबू आती है ? कहती है घी या तो मिलावटी है या कच्ची  क्रीम से बनाया गया है। पिछली बार  तो वापस करवा दिया था लेकिन बार मैं भी देखती हूँ कि उनको कैसे पता चलता है, ब्रांडेड घी के डिब्बे में मंगवाया है ! "
    " मंगत तू मांजी के सामने ही इस डिब्बे से घी निकालना ! "
    कुछ समय पश्चात खाने की  मेज पर......
" ओह्ह ! आज कल अच्छी कम्पनी का घी भी मिलावटी आने लगा है ! बिटिया कल दुकान वाले फोन कर के शिकायत करना ! "
 

Sunday, August 14, 2016

नियति

       बालकनी में टंगे पिजंरे में बने छोटे से झूले पर झूलता तोता, 'ट्वी -ट्वी ' कर रहा था।   पास ही पेड़ पर एक तोता भी 'ट्वी -ट्वी ' कर रहा था। शायद  पिंजरे वाला तोता उसी से बतिया रहा था।  पास ही कुर्सी पर बैठी कोमल दोनों की आवाजों में अंतर को सुन और पहचान रही थी। बाहर वाले तोते से पिंजरे वाले तोते की आवाज़ कितनी कर्कश थी। परतन्त्रता की एक पीड़ा भी झलक रही थी।
       आराम कुर्सी पर झूलती हुई कोमल सोच रही थी कि तोते और उसके जीवन में कितना साम्य है। दोनों ही पिंजरे में है। एक लोहे के रुपहले रंग में रंगे पिंजरे में और वह सोने के पिंजरे में !वह धीरे से उठी और पिजंरे का दरवाजा खोल दिया। यह क्या ? तोते ने तो बाहर निकलने का प्रयास ही नहीं किया।
         कोमल ने धीरे से हाथ से पकड़ कर उसे बाहर निकालना चाहा तो वह पिंजरे की दीवार से की ओर सरक गया। फिर भी कोमल ने उसे पकड़ कर बाहर निकालने की कोशिश की। तभी मुख्य दरवाजे पर आहट  हुई। तोता हाथ से छूट गया और वह झट से पिंजरे का दरवाजा बंद कुर्सी पर बैठ गई। उसकी कलाई तक चूड़ियां  पायल खनक गई !