Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Monday, August 12, 2019

आप कौन ?

    नयी -नयी लेखिका सुरभि ने पाया कि इंरटनेट  लेखन का अच्छा माध्यम है। यहाँ ना केवल लिखने का ही बल्कि अच्छा लिखने वालों को पढ़ना भी आसान है। उसने कई लिखने वालों को फॉलो करना शुरू किया। जिनमे से एक अच्छे लेखक थे जो कि  लिखते तो अच्छा ही थे पर दर्शाते उससे भी अधिक थे।
     सुरभि उनकी सभी पोस्ट पढ़ती , लाइक भी करती थी। लेकिन संकोची स्वभाव होने के कारण टिप्पणी कम ही कर पाती थी क्यूंकि वह सोचती कि लेखक महोदय इतने महान है तो वह क्या टिप्पणी करे। एक दिन वह उन तथाकथित लेखक महोदय की पोस्ट देख कर चौंक पड़ी।
     लिखा था , " आज से छंटनी शुरू ! जो मेरी पोस्ट पर नहीं आते उनको रोज थोड़ा-थोड़ा करके अलविदा करुँगा। "
      सुरभि ने चुपके से देखा कि वह , वहां है कि  नहीं ?  उस दिन तो वह वहीं थी।
       कुछ दिन बाद उसे ध्यान आया कि आज- कल उन आदरणीय-माननीय लेखक जी की कोई पोस्ट तो नज़र ही नहीं आती !
      झट से देखा ! ये क्या ? सुरभि जी का भी पत्ता कट चुका था !
       वह लेखक जी के इनबॉक्स में पूछ बैठी ," मैं तो आपके लेखन की नियमित पाठक थी ! फिर भी ?
      " मैंने तो आपको कभी देखा नहीं....., " दूसरी और से दम्भ भरा जवाब था।
     " हार्दिक धन्यवाद ! " सुरभि ने भी कह दिया।
        सोचा, " ऐसे बहुत लेखक हैं , हुहँ !"
     तीन - चार दिन बाद इनबॉक्स उन लेखक महोदय जी का गुड -मॉर्निग का सन्देशा था।
            सुरभि ने कहा , " आप कौन ? "

Thursday, June 13, 2019

हौसलों की उड़ान

             जब से बहेलिये ने चिड़िया को अपना कर देख भाल करने का फैसला किया है ;  तभी से  चिड़िया सहमी हुई तो थी ही ,लेकिन  में विचारमग्न भी थी ।वह कैसे भूल जाती बहेलिये का अत्याचार -दुराचार । उसने ना केवल उसके 'पर' नोच कर  उसे लहुलुहान किया बल्कि  उसके  तन और आत्मा को भी कुचल दिया था।  
         अब फैसला चिड़िया को करना था । उसके पिंजरा लिए सामने बहेलिया था  । " मेरे परों में अब भी हौसलों की उड़ान है !" कहते हुए उसने  खुले आसमान में उड़ान भर ली ।
        अशी ये एनिमेटेड-फिल्म देखते -देखते रो पड़ी।  कुछ महीने पहले उसको भी चिड़िया की तरह ही बहेलिये ने नोचा था। और बहेलिये ने अपना बचाव करने लिए उस से विवाह का प्रस्ताव रख दिया था। उसके फैसले का इंतज़ार बाहर किया जा रहा था। यह  एनिमेटेड फिल्म देख कर अशी को भी बहुत हौसला मिला। 
          सोचने लगी , " छोटी सी चिड़िया के माध्यम से कितनी अच्छी बात बताई है।  परों में हौसला या आत्मबल खुद में होना चाहिए। किसी का सहारा क्यों लेना। और वह भी एक आततायी का ! हर एक में एक आत्मसम्मान और स्वभिमान तो होता ही है। "
        उसने कमरे से बाहर आकर बहेलिये के प्रस्ताव पर इंकार कर दिया।

उपासना सियाग


Saturday, August 18, 2018

मन्नत

     दादी रोज मंदिर जाती और अपने परिवार की खुशियाँ , सुख-समृद्धि के लिए प्रार्थना कर आती। और सोचती कि प्रभु से माँगना  क्या ! उसको तो सब पता ही है।
         लेकिन कल से सोच में डूबी है। कल जब वे  रोज़ की तरह दोपहर में धार्मिक चैनल पर प्रसारित होती भागवत कथा सुन रही थी तो उसमें , कथा वाचक बोल रहे थे , " एक गृहस्थ को ईश्वर की पूजा सकाम भाव से करनी चाहिए। जैसे , क्या आपको मालूम भी होता है  कि  आपके बच्चे को कब क्या चाहिए ! वह भी तो बोल कर बताता है ; उसे यह चाहिए या वह चाहिए ! तो वैसे ही प्रभु को क्या मालूम कि  आपको कब -क्या  चाहिए ! उसके सामने तो सारा ब्रह्माण्ड होता है !"
             दादी को भी बात जँचती सी लगी।
     सोच में पड़ी बुदबुदाने लगी , " तभी मैं सोचूं , मेरे घर में इतनी परेशानियां क्यों है ! बेटा परेशान , पोती की शादी नहीं हो रही , पोते को नौकरी नहीं मिल रही ! यह तो भगवान से कभी माँगा ही नहीं  ! ठीक है भई , आज ही लो ! इतने दिन हो गए मंदिर जाते हुए , अब तो प्रभु मेरी भी पुकार सुनेंगे ही। मेरी मन्नत भी सुनेगे और इच्छा-पूर्ण होगी ! "
          उत्साह से पूजा की टोकरी तैयार की और मंदिर चल दी।
          मंदिर का सुवासित वातावरण और बजते घंटे दादी को हमेशा की तरह बहुत सुहा रहे थे। सोमवार होने के कारण कुछ ज्यादा ही भीड़ थी। उनको लगा की उनकी बारी आने में अभी समय है तो वे एक कोने में पड़ी कुर्सी पर बैठ गई।
         सभी आने-जाने वाले भक्तों का जायजा लेने लगी।
           सोच रही थी ," संसार में कितना दुःख है , मंदिर में आने वाले सभी अपनी आँखे बंद कर के ,अपना-अपना दुःख भगवान को सुना रहे हैं ! क्या किसी को भगवान की सुन्दर -मुस्कुराती हुई मूर्ति नहीं दिख रही  ? सब आंखे मूंदे हुए अपना ही राग अलाप रहे हैं !यह तो सभी जानते ही हैं कि  सुख- दुःख तो हमारे कर्म फल हैं। मंदिर तो मन की शांति खोजने का तो साधन है फिर यहाँ क्यों अशांति फैलाई जाये।एक बार मुस्कराती मूरत को मन में बसा ले तो शायद कोई हल मिल भी जाये। अरे ! जब प्रभु सारे ब्रह्माण्ड का दुःख हँस कर झेल रहे हैं तो इंसान ऐसा क्यों नहीं करता ! " जोर से बजे घण्टे ने दादी की तन्द्रा भंग की तो उनको लगा कि अब उनकी बरी आ जाएगी।
         बारी आने पर दादी ने भी पूजा की और बोली , " हे प्रभु तेरे द्वार आने वाले हर एक की इच्छा पूर्ण करना। "
          और फिर दादी अपने घर लौट गई।

Thursday, August 2, 2018

द्विजा..

मेघा की आँखे बरसना तो चाह रही थी पर संयमित रहने का दिखावा कर रही थी | कुछ देर पहले की बातें कानों में गूंज रही है |
       " यह क्या आज टिफिन में परांठे -आचार ! और माँ को सिर्फ खिचड़ी ? "
     " हाँ , आज उठने में जरा देर हो गई तो यह सब ही बना पाई | "
" तो जल्दी उठा करो ना ... ! " रजत भड़क कर बोला
   " अरे जाने दे बेटा ! सारा दिन भाग-दौड़ में थक जाती है !"
मांजी, बेटे के सामने तो अच्छी बन रही थी लेकिन मेघा को देख कर बड़बड़ाने लगी , " छह महीने हुए है शादी को और रंग दिखाने लगी , बना के रख दी खिचड़ी , खा लो भई... हुँह !"
      कॉलेज के आगे बस रुकी | वह मन को संयत कर ,अनमनी सी आगे बढ़ी कि लॉन में लगे गमले का पौधा कुछ मुरझाया सा खड़ा था | पास ही खड़े माली से पूछा," भैया इस पौधे को क्या हुआ ! शनिवार को तो बहुत खिला-खिला था ! "
  " वो क्या है कि मैडम जी ... यह धरती में जड़ें फैलाने लगा था ! "

Monday, December 11, 2017

सोच ...(लघुकथा )

" क्या हुआ थक गए ! तुमसे दो चक्कर ज्यादा लगाए हैं ! " " थक कर नहीं बैठा, यह तो फ़ोन बीच में ही बोल पड़ा, नहीं तो ...! तुमने कंधे पर सर क्यों रख दिया ? अब तुम भी तो ..."
" अजी नहीं थकी नहीं हूँ ! मैं तो सोच रही हूँ कि एक दिन ऐसे ही पार्क में ही नहीं जिंदगी में भी सैर करते, दौड़ लगाते तुम्हारे कंधे पर सर रख कर आँखे मूंद लूँ सदा के लिए। " " अरे वाह ,तुम्हारी सोच कितनी महान है ! मुझसे पहले जाने की बात करती हो ! और देखो तुम्हारे इस तरह बैठ जाने पर लोग कैसे देख रहे हैं .. हंस रहे हैं ... हमें उम्र का लिहाज करते हुए समझदारी से दूर-दूर बैठना चाहिए। " " हा हा हा ! सच में ! हमने लिबास ही बदला है सोच नहीं ! चलो एक चक्कर और लगाते हैं !"

कीमत (लघुकथा )

माँ की इच्छानुसार तेहरवीं के अगले दिन उनके गहनों का बंटवारा हो रहा था। चाचा जी दोनों भाई -बहन को अपने सामने बैठा कर एक-एक करके दोनों को सामान हिस्से में दिए जा रहे थे। आखिर में झुमके की जोड़ी बच गई।
बहन को ये बहुत पसंद थे। माँ जब भी पहनती थी तो बहुत सुन्दर लगती थी। वह धीरे से झुमकों को ऊँगली से हिला देती थी और माँ हंस देती थी। अब इन झुमकों को बहुत हसरत से देख रही थी। भाई को भी यह मालूम था।
भाई ने कहा कि ये दोनों ही बहन को दे दिए जाएँ। बहन खुश भी ना हो पाई थी कि भाभी तपाक से बोल पड़ी ," हां दीदी को दे दो और जितनी एक झुमके की कीमत बनती है वो इनसे ले लेंगे ! माँ जी की तो यही इच्छा थी कि दोनों भाई -बहन में उनके गहने आधे -आधे बाँट दिए जाएं। अब झुमका ना सही रूपये ही सही ! " बहन की आँखे भर आई रुंधे गले से बोली, " मुझे माँ के इन झुमकों का बंटवारा भी नहीं चाहिए और कीमत भी नहीं , क्यूंकि ये मेरे लिए अनमोल हैं। मैं मेरा यह झुमका भतीजी को देती हूँ। "

Friday, September 22, 2017

देवियाँ बोलती कहाँ है !



     थक गई हूँ मैं , देवी की प्रतिमा का रूप धरते -धरते। ये पांडाल की चकाचौंध , शोरगुल मुझे उबा रहे हैं। लोग आते हैं ,निहारते हैं ,
        " अहा कितना सुन्दर रूप है माँ का !" माँ का शांत स्वरूप को तो बस देखते ही बनता है। "
          मेरे अंतर्मन का कोलाहल क्या किसी को नहीं सुनाई देता !
           शायद मूर्तिकार को भी नहीं ! तभी तो वह मेरे बाहरी आवरण को ही सजाता -संवारता है कि दाम अच्छा मिल सके।
       वाह रे मानव ! धन का लालची कोई  मुझे मूर्त रूप में बेच जाता है। कोई मेरे मूर्त रूप पर चढ़ावा चढ़ा जाता है। कोई मेरे असली स्वरूप की मिट्टी को मिट्टी में दबा देता है।  और मेरे शांत रूप को निहारता है।
  मैं चुप प्रतिमा बनी अब हारने लगी हूँ। लेकिन देवियाँ बोलती कहाँ है ! मिट्टी की हो या हाड़ -मांस की चुप ही रहा करती है।