Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Saturday, March 8, 2014

जीवन में असंतुष्टि और ईर्ष्या से पैदा होती है महिलाओं में कर्कशता

      स्वर मधुर ही अच्छे लगते हैं। कर्कश  कानों को चुभने वाले स्वर कब किसे अच्छे लगे हैं। ऐसे ही वाणी  भी मीठी ही अच्छी लगती है। कर्कश बोल जो कानो को चभते हुए सीधे हृदय को शूल से बींध देते हैं। किसको भाते हैं भला !
   कर्कश ! मतलब  खड़ी  बोली।  बिना लाग  लपेट जो मुहं में आया कह दिया। सामने वाला जो समझे वो समझे। अच्छा या बुरा उनको नहीं मालूम।
      हम आस पास नज़र दौड़ाएं तो हमें बहुत  सारे  लोग दिख जायेंगे जो अपनी वाणी के द्वारा पसंद या नापसंद किये जाते हैं। इनमे से अधिकतर औरतें होती है जो अपनी कर्कश बोली से माहोल खराब किये रहती है ना केवल घर का ही बल्कि उस समूह का भी जहाँ वह बैठती है।
    कर्कशता जैसे कि शिकायती लहज़ा। हर बात में उलाहना , ताने और असंतुष्टि दर्शाते हुए वचन बोलना उनकी विशेषता होती है।  ऐसी औरतें अक्सर कहती है कि उनका मन तो साफ है ,बोली ऐसी है तो क्या किया जा सकता है। लेकिन ऐसी बोली क्यूँ है उनकी ?  वे अपने खास प्रियजनों से ऐसे रुखाई से नहीं बोलती तो यह कैसे माना जा सकता है कि उनकी बोली या बोलने का तरीका ही ऐसा है। उनके शब्दों के तीर जाने  कितने दिलों को बेध देते  है ! उनको यह नहीं मालूम शायद ! और एक दिन ऐसा भी आता है कि उनके पास कोई भी बैठने से ही कतराता है।
  मेरी एक परिचिता है  जिनको कि हर बात में नुक्स -शिकायत की  आदत है। घर वाले तो आदत समझ कर टाल देते हैं लेकिन नौकर नहीं टिक पाता।
     चलिए माना  कि ऐसी बोली है तो क्यूँ है ऐसी बोली ! आखिर क्या कारण हैं ऐसे व्यवहार का ! अगर गौर से सुना जाये तो इनकी बात  में एक शिकायत होती है कि उनके साथ कभी अच्छा व्यवहार नहीं हुआ। उनको हर दृष्टि से दबाया गया है या हीन समझा गया है। उनकी आवाज़ कहीं न कहीं एक अवसाद से घिरी होती है। जैसे प्रेम को खोज़ रही हैं।
     कोई भी औरत जो कि ममता की मूरत होती है वह इतनी ईर्ष्यालु और शिकायती क्यूँ हो जाती है। किस कारण वह इतनी जहर बुझी वाणी बोलने लगती है। अगर मनोवैज्ञानिक रूप से देखा जाय तो ऐसी औरतें नफरत नहीं बल्कि सहानुभूति की  पात्र है। वे अपने दिल में ना जाने कितनी इच्छाएं और हसरतें मन में दबाये होती है।
       जैसा कि हमारे समाज का चलन है कि औरतों को कमतर समझा जाता है। सिर्फ पुरुष ही नहीं बल्कि विवाह के बाद भी उसे अपने आप को स्थापित करने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है। यहाँ उनको महिलाओं में ही अपना वर्चस्व स्थापित करना होता है।
      समाज के तीनों वर्गों में मध्यम वर्गीय औरतें ही अधिकतर सहन करती है। क्यूंकि उच्च वर्गीय महिलाओं को सब सहज उपलब्ध होता है तो वे किसी बात की  मोहताज़ नहीं होती। इसी तरह निम्न वर्ग की  महिलाएं अपनी चादर और सीमित  आसमान देख कर जिंदगी से समझोता कर लेती है।
लेकिन मध्यम वर्गीय महिलाएं घर और बाहर दोनों जगह अपने आपको साबित करने के कारण और घर में भी ज्यादा महत्व न दिए जाने  के कारण अपनी सहनशक्ति खो देती है और हृदय में द्वेष और ईर्ष्या पनपने लगती है ।  एक मध्यम वर्ग की  महिला जो कि घर के हालात बेहतर बनाने के लिए घर के पुरुषों से कंधे से कन्धा मिला कर चलती है। उसे ना केवल घर की  महिलाओं की ही बल्कि पुरुषों की  अपेक्षाओं पर भी खरा उतरना पड़ता है। घर और बाहर का संतुलन बना कर चलती वह अपने दिमाग का संतुलन खोने लगती है। उसे समझ नहीं आता कि उसकी गलती क्या है। तब दिल पर उदासी सी घिर जाती है जब वह सारा दिन खट  कर घर आती है और उसे एक गिलास पानी तो दूर की  बात है , प्यार की  मीठी और ठंडी नज़र भी नसीब नहीं होती। यहाँ पुरुष उत्तरदायी कम होते हैं बल्कि औरतें ही अधिक उत्तरदायी  होती है।  पुरुष खामोश रहते हैं जो कि सर्वथा अनुचित है और असहनीय भी।
     जब सहनशक्ति असहनीय हो जाती है तब सारी  खीझ -क्रोध वाणी के माध्यम से ही निकलता है। सबसे पहले वह अपने पति और फिर बच्चों पर अपना क्रोध जाहिर करती है। ऐसा कर के शायद उनको बहुत सुकून मिलता है। धीरे -धीरे उनकी ये आदत में शुमार हो जाता है।जो भी उसे खुद से कमज़ोर नज़र आता है उसी से कर्कश व्यवहार करती है। जिन औरतों में आत्मविश्वास की  कमी होती है वे ही धीरे -धीरे हीनता का शिकार बनती रहती है।
     घरेलू मोर्चे पर डटी महिला अपनी कर्कशता से सारे घर का माहोल  ख़राब  किये तो रहती ही है और अपनी यही कर्कशता आने वाली पीढ़ी को विरासत में दे जाती हैं।  हालाँकि सभी जगह ऐसा नहीं होता है  क्यूंकि कुछ औरतें हालत से समझोता कर के खुश रह लेती है। लेकिन जो अति संवेदन शील होती है वे एक दिन उग्र रूप धारण कर लेती है। लेकिन जब  औरत कर्कशता धारण ही कर ले  तो क्या किया जाये !
      सबसे पहले तो  किसी भी औरत को अपने ऊपर होने वाले कटु व्यवहार को खुद ही रोकना होगा। अपना आत्मविश्वास बना कर रखे। जब तक आप इजाज़त नहीं देते आप से कोई दुर्व्यवहार नहीं कर सकता है। जीवन  पर सभी को जीने का अधिकार है तो क्यूँ न शांति से , प्रेम से ही जिया जाय। अगर किसी औरत के साथ ना -इंसाफी होती भी है तो परिवार की  दूसरी महिलाएं आगे हो कर उसे सम्भाले और गलत का विरोध करें।
       जो औरत ऐसा व्यवहार करती है उसे स्पष्ट रूप से कहा जाय कि उसका व्यवहार असहनीय है। उसे अपना यह व्यवहार बदलना ही होगा।
     उसके जीवन में जो कमी रही हो या उसके मान सम्मान में जहाँ कमी रह गयी हो वहाँ उसे यकीन दिलाया जाए कि उसे सभी प्रेम करते हैं और उसका रुतबा बड़ा ही है।
    एक औरत को दूसरी औरत ही समझ सकती है। कर्कशता एक तरह से मानसिक रोग ही है। जो कि प्यार और सम्मान से ही ठीक किया जा सकता है। नहीं तो एक दिन यह किसी भी औरत को गहन अवसाद की और धकेल देता है।घर  हर किसी के लिए एक आरामगाह होता है तो एक औरत ही क्यूँ इससे महरूम रहे। उसे क्यूँ नहीं मान और सम्मान दिया जाय !





 
  

7 comments:

  1. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक10/03/2014 यानी आने वाले इस सौमवार को को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।
    [अगर आप ने अभी तक मंच की सदस्यता नहीं ली है, मेरा आप से निवेदन है कि आप मंच का सदस्य बनकर मंच को अपना स्नेह दें।]

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर ....बधाई

    ReplyDelete
  3. जीवन मे असंतुष्टि किसी के भी व्यक्तित्व को बदल देती है या तो वह आक्रोश का स्थान लेलेती है या खामोशी और हीनभावना का .......

    ReplyDelete
  4. आपने बहुत अच्छे विषय को उठाया है ,सटीक वर्णन भी किया है।

    ReplyDelete
  5. स्वभाव में कर्कशता के कारणों का बहुत सुन्दर और सटीक विश्लेषण...

    ReplyDelete
  6. अपने आस पास ही ऐसी महिलायें मिल जाती हैं ....और ये वाकई सहानुभूति की पात्र होती हैं...

    ReplyDelete
  7. मैंने इस लेख को आज दुबारा पढ़ा है बेहद सटीक चित्रण किया है आपने कर्कश महिलाओ पर। बधाई

    ReplyDelete