Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Monday, December 11, 2017

सोच ...(लघुकथा )

" क्या हुआ थक गए ! तुमसे दो चक्कर ज्यादा लगाए हैं ! " " थक कर नहीं बैठा, यह तो फ़ोन बीच में ही बोल पड़ा, नहीं तो ...! तुमने कंधे पर सर क्यों रख दिया ? अब तुम भी तो ..."
" अजी नहीं थकी नहीं हूँ ! मैं तो सोच रही हूँ कि एक दिन ऐसे ही पार्क में ही नहीं जिंदगी में भी सैर करते, दौड़ लगाते तुम्हारे कंधे पर सर रख कर आँखे मूंद लूँ सदा के लिए। " " अरे वाह ,तुम्हारी सोच कितनी महान है ! मुझसे पहले जाने की बात करती हो ! और देखो तुम्हारे इस तरह बैठ जाने पर लोग कैसे देख रहे हैं .. हंस रहे हैं ... हमें उम्र का लिहाज करते हुए समझदारी से दूर-दूर बैठना चाहिए। " " हा हा हा ! सच में ! हमने लिबास ही बदला है सोच नहीं ! चलो एक चक्कर और लगाते हैं !"

No comments:

Post a Comment